• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • Experiments Were Conducted In CAA And NRC’s Ruckus, Mixed Weapons With Slingshot In Thakkar Village Of Jabalpur

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जबलपुर4 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

हनुमानताल पुलिस द्वारा जब्त आरोपी के घर से धारदार हथियार व गुलेल

  • गोहलपुर सीएसपी की अगुवाई में हनुमानताल पुलिस ने मारा छापा
  • तलवार, बका, एयरगन सहित बड़ी गुलेल जब्त, आरोपी गिरफ्तार

सीएए व एनआरसी के मुद्दे पर एक वर्ष पहले शहर में हुए बवाल के दौरान जिस घातक गुलेल का इस्तेमाल हुआ था, उसे यू ट्यूब पर देखकर बनाया गया था। इस गुलेल से पत्थर या अन्य वजनी वस्तु से 150 से 200 मीटर दूर तक सटीक निशाना लगाया जा सकता है। इसी गुलेल से छतों से पुलिस को निशाना बनाया गया था। उस समय हनुमानताल, गोहलपुर, अधारताल क्षेत्र में इसकी काफी डिमांड थी। सीएसपी गोहलपुर ने हनुमानताल पुलिस के साथ गुलेल बनाने वाले आरोपी के घर दबिश दी। मौके पर गुलेल सहित धारदार हथियार बनाने का कारखाना मिला। पुलिस ने छह तलवार, छह बका, एयरगन, तीन हाइटेक गुलेल व अन्य धारदार हथियार जब्त किए।
सोमवार देर रात पुलिस का छापा
हनुमानताल थाना प्रभारी उमेश गोल्हानी ने बताया कि ठक्कर ग्राम निवासी शाहनवाज उर्फ रवि अंसारी के बारे में सूचना मिली थी कि वह घर में धारदार हथियार और गुलेल बनाता है। सोमवार देर रात 12.30 बजे उसके घर पर दबिश दी गई। घर में शाहनवाज अकेला रहता है। परिवार के लोग दूसरी जगह रहते हैं। मौके से एक एयर गन, तलवार, बका, हथौड़ा, कुल्हाड़ी, तीन हाइटेक गुलेल, बका-चाकू बनाने का कच्चा माल व ड्रिल मशीन सहित निर्माण में जरूरी अन्य उपकरण जब्त किए।
शहर के कई बदमाशों को है बेचा
सीएसपी अखिलेश गौर ने बताया कि इसी कारखाने से पिछले दिसंबर महीने में सीएए व एनआरसी को लेकर मचे बवाल के दौरान प्रदर्शनकारियों को हाइटेक गुलेल बेची गई थी। पुलिस ने मौके से शहनवाज उर्फ रवि अंसारी को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में शहनवाज ने बताया कि वह लम्बे समय से हथियार बनाकर बेचता है। उससे कई बदमाश ऑर्डर देकर अपनी पसंद के अनुसार हथियार बनवाते हैं। पुलिस ऐसे बदमाशों की सूची तैयार करने में जुटी है। आरोपी ने बताया कि सीएए व एनआरसी के समय सबसे अधिक उसकी हाइटेक गुलेल बिकी थी।
धारदार हथियार को लेकर सुरक्षा एजेंसियां चौकन्नी
ठक्कर ग्राम संवेदनशील क्षेत्रों में आता है। यहां अवैध हथियारों का निर्माण और एकत्र किया जाना पुलिस के लिए चिंता की बात है। सीएए-एनआरसी का विरोध प्रदर्शन दिसंबर में शुरू हुआ था। एक वर्ष पूरा होने वाला है। ऐसे में एक घर में इस तरह से धारदार हथियारों का बनाया जाना किसी गहरी साजिश का हिस्सा भी हो सकता है। यही कारण है कि सुरक्षा एजेंसियां भी चौकन्नी हो गई हैं। शहनवाज अकेला रहता था। उसका परिवार अलग रहता है। शहनवाज बॉडी-बिल्डर है और जिम जाता है। पुलिस उसके हर गतिविधि की जांच में जुटी है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here