Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

इंदौर2 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

पांच दिन बाद मासूम सकुशल मिल गया।

महाराजा यशवंतराव अस्पताल (एमवायएच) से रविवार काे चोरी गया एक दिन का बच्चा 5 दिन बाद शुक्रवार काे मिल गया। काेई अज्ञात बच्चे को संयोगितागंज पुलिस थाना परिसर में छोड़ कर चला गया था। निगम के सफाई कर्मी सुबह पहुंचे और परिसर की सफाई करने लगे तो एक महिलाकर्मी को बच्चा नजर आया। बच्चे को देख महिलाकर्मी ने अन्य साथियों को बुलाया, इसके बाद पुलिस को सूचना दी गई। पुलिस ने बच्चे को एमवाय अस्पताल पहुंचा दिया है। बताया जा रहा है कि बच्चा सकुशल है। परिजन मयूर ने बताया कि पुलिस ने बच्चा मिलने की सूचना दी है। एमवाय में बच्चे को भर्ती करवाया गया है। हमने अभी बच्चे को नहीं देखा है। देखने के बाद ही संतुष्टि होगी।

रविवार को शाम करीब 6 बजे कोई बच्चे को चुरा ले गया था।

रविवार को शाम करीब 6 बजे कोई बच्चे को चुरा ले गया था।

इंदौर डीआईजी हरिनारायणाचारी मिश्र ने बताया कि पुलिस ने सफेद कलर की 450 गाड़ियां चिन्हित की थी। इन गाड़ियों के मालिकों को एक-एक कर बुलाया जा रहा था। पुलिस की सख्ती के कारण उसी में से किसी चोर ने डर के मारे उसे थाने के पास लाकर छोड़ दिया है। वहीं, बच्चा चोरी के मामले में पता चला है कि बच्चे को कोई 6 बजे के करीब छोड़कर गया होगा। क्यांेकि थाने के जवानों के अनुसार मुंशी जब पौने 6 बजे के करीब थाने पहुंचे थे। तो वहां कोई बच्चा नहीं था। संभवत: ताक पर बैठे अज्ञात ने मौका पाकर उसे थाने के पास में छोड़ दिया। सुबह करीब 6 बजे सफाईकर्मी जब पहुंचे तो वहां पर बच्चा रखा हुआ था। पुलिस मामले में सीसीटीवी को तलाश रही है।

ऐसी है चोरी वाले दिन की कहानी

रानी पति लोकेश भियाने निवासी पंचम की फेल मालवा मिल को परिजन 15 नवंबर की रात 2 बजे प्रसव पीड़ा होने पर एमवाय अस्पताल लेकर आए थे। सुबह 5 बजकर 5 मिनट पर रानी ने बच्चे को जन्म दिया। उसी दिन शाम 6 बजे के आसपास वार्ड नंबर 3 में एक युवती सफेद रंग के कपड़े पहने हुए नर्स के रूप में वार्ड में आई और यहां कुछ महिलाओं के पास पहुंची। सबसे पहले पूछा लड़का है या लड़की है। कुछ चेकअप किया, कुछ महिलाओं को दवाई भी दी और फिर हमारे पास पहुंची। पूछा बच्चा लड़का हुआ या लड़की। यह पूछने पर हमने कहा कि लड़का हुआ है, तो उसने चेकअप किया और कहा कि बच्चे की धड़कन कम है। इसकी जांच करवाना पड़ेगी। मेरे साथ नीचे चलो।

पीड़ित के अनुसार हमने उसे मना कर दिया, तो वह चली गई। थोड़ी देर बाद वापस आई और कहा कि मेरे साथ चलो, आप अभी तक क्यों नहीं गए, तो रानी की मां बच्चे को लेकर उनके पीछे चली गई। नीचे जाकर उसने बच्चे को गोद में ले लिया और कहा कि आप पर्ची बनवा लाओ। जैसे ही, नानी सामने पर्ची बनवाने गई, वह युवती पीछे पलटी। इधर-उधर देखा और बच्चे को लेकर पीछे वाले गेट से निकल गई। नानी पर्ची बनवाकर जब लौटी, तो युवती नहीं दिखी। खोजने के बाद परिवार वालों और एमवाय अस्पताल प्रशासन को सूचित किया।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here