नई दिल्ली | सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) के निधन के बाद से बॉलीवुड को लेकर नेपोटिज्म (Nepotism) का मुद्दा एक बार फिर से छिड़ा हुआ है। स्टारकिड्स को लोगों ने बुरी तरह से ट्रोल किया है। इन्ही स्टारकिड में अभिषेक बच्चन (Abhishek Bachchan) का नाम भी आता है जो अपने करियर के शुरुआत से ही काफी आलोचनाएं झेल रहे हैं। अभिषेक बच्चन ने अपने एक्टिंग करियर की शुरुआत साल 2000 में फिल्म रिफ्यूजी से की थी। हालांकि ये फिल्म कुछ खास नहीं चली थी, तभी से लोग अभिषेक को उनके पिता अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) से कंपेयर करते रहे हैं। हाल ही में अभिषेक ने नेपोटिज्म पर बात करते हुए अपने स्ट्रगल पर बात की और पिता का सपोर्ट ना मिलने का भी राज खोला।

न्यूड के बाद अब Milind Soman ने शेयर की शर्टलेस तस्वीर, पत्नी अंकिता के साथ फोटो हुई वायरल..

पापा ने मेरे लिए किसी को कोई फोन नहीं किया

अभिषेक बच्चन ने एक इंटरव्यू में बताया कि सच्चाई ये है कि भले ही मैं अमिताभ बच्चन का बेटा हूं लेकिन मेरे पिता ने आजतक मेरे लिए किसी को एक फोन नहीं किया है। इसकी जगह पर मैंने उनकी फिल्म पा को जरूर प्रोड्यूस किया था। लोगो को समझना होगा कि ये एक बिजनेस है। आपका बॉलीवुड में टिकना इसपर निर्भर करता है कि लोग आपको पसंद कर रहे हैं या नहीं। अगर आपकी पहली फिल्म चल गई या किसी को आपमें कुछ दिखाई दिया तब ही यहां बात बनेगी वरना कोई मतलब नहीं है। आपको काम नहीं मिलता है। ये इस इंडस्ट्री की सच्चाई है।

अभिषेक को कई फिल्मों में किया गया रिप्लेस

अभिषेक ने आगे कहा कि मुझे पता है मेरी कौन सी फिल्में नहीं चली, किस फिल्म से मुझे रिप्लेस किया गया। कौन सी फिल्म बजट कम होने के कारण नहीं बन सकी और उस वक्त मेरे पास इतना पैसा नहीं था। लोगों को लगता है कि अरे आप तो अमिताभ बच्चन के बेटे हैं, चांदी का चम्मच लेकर पैदा हुए होंगे लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। बता दें कि जल्द ही अभिषेक बच्चन फिल्म लूडो में नजर आ वाले हैं। ये एक डार्क कॉमेडी है जिसे अनुराग कश्यप ने डायरेक्ट किया है। अभिषेक के साथ फिल्म में राजकुमार राव, पंकज त्रिपाठी और सान्या मल्होत्रा जैसे एक्टर्स नजर आएंगे।

 





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here